Upcoming Events

  • 27, Feb 2022 12:46 am

#selfie_with_river_azadfoundation पन्ना जिले पन्ना टाईगर रिजर्व में केन नदी मध्य प्रदेश #run_for_river_azadfoundation

www.azadfoundation.net की विशेष मुहिम...


नदियों को स्वच्छ एवं जीवंत बनाए रखने की मुहिम का संकल्प आज ही ले..


#selfie_with_river_azadfoundation

#run_for_river_azadfoundation


 पन्ना जिले पन्ना टाईगर रिजर्व में केन नदी के साथ जीवनदायनी रोमांचित क्षण...


पर्यावरण जागरूकता कार्यक्रम के अंतगर्त नदी जल संरक्षण परियोजना के तहत Azad Foundation की विशेष पहल जिसके अन्तर्गत भारत की सभी नदियों के महत्त्व और चुनौतियों से हम आपको जागरूक करवाएंगे, #selfie_with_river_azadfoundation #run_for_river_azadfoundation

भारतीय संस्कृति में, हम नदियों को सिर्फ जल के स्रोतों के रूप में नहीं देखते। हम उन्हें जीवन देने वाले देवी देवताओं के रूप में देखते हैं। कई नदियों और झीलों के रूप में पानी के प्रचुर प्राकृतिक स्रोतों पर विचार करते हुए देखे तो भारत एक समृद्ध देश है। देश को सही तौर पर “नदियों की भूमि” के रूप में उल्लेखित किया जा सकता है, भारत के लोग नदियों की पूजा देवी और देवताओं के रूप में करते हैं। लेकिन क्या विडंबना है कि नदियों के प्रति हमारा गहन सम्मान और श्रद्धा होने के बावजूद, हम उसकी पवित्रता, स्वच्छता और भौतिक कल्याण बनाए रखने में सक्षम नहीं हैं। हमारी मातृभूमि पर बहने वाली गंगा, यमुना, सिंधु ,ब्रह्मपुत्र और कावेरी या कोई अन्य नदी हो, कोई भी प्रदूषण से मुक्त नहीं है। नदियों के प्रदूषण के कारण पर्यावरण में मनुष्यों, पशुओं, मछलियों और पक्षियों को प्रभावित करने वाली गंभीर जलजनित बीमारियाँ और स्वास्थ्य सम्बंधित समस्याएं उत्पन्न हो रही हैं।


केन नदी 


 केन यमुना की एक उपनदी या सहायक नदी है जिसका उद्गम विंध्याचल पर्वत से होता है तथा यह बुन्देलखंड क्षेत्र से गुजरते हुए यमुना नदी में मिल जाती है। दरअसल मंदाकनी तथा केन यमुना की अंतिम उपनदियाँ हैं क्योंकि इस के बाद यमुना गंगा से जा मिलती है। केन नदी कटनी, मध्यप्रदेश से प्रारंभ होती है, पन्ना में इससे कई धारायें आ जुड़ती हैं और फिर बाँदा, उत्तरप्रदेश में इसका यमुना से संगम होता है।


केन नदी मध्य भारत की एक प्रमुख नदी है। यह बुंदेलखंड क्षेत्र की महत्वपूर्ण नदियों में से एक है। यह, भारत के दो राज्यों ( मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश) से होकर बहती है। केन नदी की कई सारी सहायक नदियां भी है। इस नदी का अधिकतम भाग मध्य प्रदेश में है इसीलिए यह मध्य प्रदेश का प्रमुख जल स्रोत है। पर्यटन के दृष्टिकोण से भी यह नदी बहुत महत्वपूर्ण है। पन्ना राष्ट्रीय उद्यान में भी यही नदी बहती है। आगे आने वाले भागों में हम केन नदी की विशेष व्याख्या करेंगे।


केन नदी घाटी का भौगोलिक विस्तार-


केन नदी घाटी, उत्तरी अक्षांश 23 ° 20 'और 25 ° 20' और पूर्वी देशांतर 78 ° 30 'और 80 ° 32' के बीच स्थित है। केन नदी की कुल लंबाई 427 किलोमीटर है। इसमें से 292 किलोमीटर मध्य प्रदेश में, 84 किलोमीटर उत्तर प्रदेश में और 51 किलोमीटर, की राज्य सीमा है। केन नदी घाटी का कुल जलग्रहण क्षेत्र 28,058 वर्ग किलोमीटर है। केन नदी घाटी का अधिकतम भाग मध्य प्रदेश में है। केन नदी घाटी के जल ग्रहण क्षेत्र का 24,472 वर्ग किलोमीटर मध्य प्रदेश में और 3,586 वर्ग किमी उत्तर प्रदेश में स्थित है।


केन नदी का प्रवाह पथ-


केन नदी का प्रारंभिक स्रोत, मध्य प्रदेश के जबलपुर जिले के, कैमूर रेंज मैं है। कैमूर पर्वतमाला के उत्तर-पश्चिम ढलान ही केन नदी का उद्गम स्थल है। यह अहिरगवां ग्राम के पास से उत्पन्न होती है। यह स्थल, समुद्र तल से 550 मीटर की ऊँचाई पर है। केन नदी, उत्तर प्रदेश में चिल्ला गाँव के पास, यमुना नदी में विलीन होती है। यह संगम स्थल लगभग 95 मीटर की ऊँचाई पर स्थित है। केन नदी, पन्ना और छतरपुर जिलों के बीच सीमा बनाती है। केन नदी के द्वारा उत्तर प्रदेश एवं मध्य प्रदेश की प्राकृतिक सीमा भी बनाई गई है। मध्य प्रदेश के छतरपुर जिले और उत्तर प्रदेश के बांदा जिले के बीच की राज्य सीमा पर केन नदी ही है। 


केन नदी की सहायक नदियाँ-


केन नदी की अन्य महत्वपूर्ण सहायक नदियाँ निम्नलिखित है- भालूमा नदी, कोपरा नदी, बेवस नदी, उर्मिल नदी, मिरहसन नदी, कुटनी

नदी, केल नदी, गुरने नदी, पाटन नदी, स्यामरी नदी, चंद्रावल नदी तथा बन्ने नदी। 


सोनार नदी- केन नदी की सबसे लंबी सहायक नदी सोनार नदी है, जो मध्य प्रदेश में बहती है। सोनार नदी की उप घाटी संपूर्ण रूप से मध्यप्रदेश में ही है। यह 23 ° 20 'और 23 ° 50' के उत्तर अक्षांश तथा 78 ° 30 'के पूर्वी देशांतर और 79 ° 15' के बीच स्थित है। इसकी लंबाई 227 किलोमीटर है। सोनार नदी घाटी का कुल जलग्रहण क्षेत्र 6,550 वर्ग किलोमीटर है। इस घाटी का एक पत्ते के आकार सा जलग्रहण क्षेत्र है। इसकी औसत चौड़ाई लगभग 40 किलोमीटर है। सोनार नदी घाटी कि एक तरफ पर्वतमाला तथा बाकी दोनों तरफ नदियां है। पूर्व दिशा में बेयरमा घाटी (केन नदी की एक और उप-घाटी) है। सोनार नदी के पश्चिम में www.azadfoundation.net की विशेष मुहिम...

नदियों को स्वच्छ एवं जीवंत बनाए रखने की मुहिम का संकल्प आज ही ले..

#selfie_with_river_azadfoundation

#run_for_river_azadfoundation

पन्ना जिले पन्ना टाईगर रिजर्व में केन नदी के साथ जीवनदायनी रोमांचित क्षण...

पर्यावरण जागरूकता कार्यक्रम के अंतगर्त नदी जल संरक्षण परियोजना के तहत Azad Foundation की विशेष पहल जिसके अन्तर्गत भारत की सभी नदियों के महत्त्व और चुनौतियों से हम आपको जागरूक करवाएंगे, #selfie_with_river_azadfoundation #run_for_river_azadfoundation
भारतीय संस्कृति में, हम नदियों को सिर्फ जल के स्रोतों के रूप में नहीं देखते। हम उन्हें जीवन देने वाले देवी देवताओं के रूप में देखते हैं। कई नदियों और झीलों के रूप में पानी के प्रचुर प्राकृतिक स्रोतों पर विचार करते हुए देखे तो भारत एक समृद्ध देश है। देश को सही तौर पर “नदियों की भूमि” के रूप में उल्लेखित किया जा सकता है, भारत के लोग नदियों की पूजा देवी और देवताओं के रूप में करते हैं। लेकिन क्या विडंबना है कि नदियों के प्रति हमारा गहन सम्मान और श्रद्धा होने के बावजूद, हम उसकी पवित्रता, स्वच्छता और भौतिक कल्याण बनाए रखने में सक्षम नहीं हैं। हमारी मातृभूमि पर बहने वाली गंगा, यमुना, सिंधु ,ब्रह्मपुत्र और कावेरी या कोई अन्य नदी हो, कोई भी प्रदूषण से मुक्त नहीं है। नदियों के प्रदूषण के कारण पर्यावरण में मनुष्यों, पशुओं, मछलियों और पक्षियों को प्रभावित करने वाली गंभीर जलजनित बीमारियाँ और स्वास्थ्य सम्बंधित समस्याएं उत्पन्न हो रही हैं।

केन नदी

केन यमुना की एक उपनदी या सहायक नदी है जिसका उद्गम विंध्याचल पर्वत से होता है तथा यह बुन्देलखंड क्षेत्र से गुजरते हुए यमुना नदी में मिल जाती है। दरअसल मंदाकनी तथा केन यमुना की अंतिम उपनदियाँ हैं क्योंकि इस के बाद यमुना गंगा से जा मिलती है। केन नदी कटनी, मध्यप्रदेश से प्रारंभ होती है, पन्ना में इससे कई धारायें आ जुड़ती हैं और फिर बाँदा, उत्तरप्रदेश में इसका यमुना से संगम होता है।

केन नदी मध्य भारत की एक प्रमुख नदी है। यह बुंदेलखंड क्षेत्र की महत्वपूर्ण नदियों में से एक है। यह, भारत के दो राज्यों ( मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश) से होकर बहती है। केन नदी की कई सारी सहायक नदियां भी है। इस नदी का अधिकतम भाग मध्य प्रदेश में है इसीलिए यह मध्य प्रदेश का प्रमुख जल स्रोत है। पर्यटन के दृष्टिकोण से भी यह नदी बहुत महत्वपूर्ण है। पन्ना राष्ट्रीय उद्यान में भी यही नदी बहती है। आगे आने वाले भागों में हम केन नदी की विशेष व्याख्या करेंगे।

केन नदी घाटी का भौगोलिक विस्तार-

केन नदी घाटी, उत्तरी अक्षांश 23 ° 20 'और 25 ° 20' और पूर्वी देशांतर 78 ° 30 'और 80 ° 32' के बीच स्थित है। केन नदी की कुल लंबाई 427 किलोमीटर है। इसमें से 292 किलोमीटर मध्य प्रदेश में, 84 किलोमीटर उत्तर प्रदेश में और 51 किलोमीटर, की राज्य सीमा है। केन नदी घाटी का कुल जलग्रहण क्षेत्र 28,058 वर्ग किलोमीटर है। केन नदी घाटी का अधिकतम भाग मध्य प्रदेश में है। केन नदी घाटी के जल ग्रहण क्षेत्र का 24,472 वर्ग किलोमीटर मध्य प्रदेश में और 3,586 वर्ग किमी उत्तर प्रदेश में स्थित है।

केन नदी का प्रवाह पथ-

केन नदी का प्रारंभिक स्रोत, मध्य प्रदेश के जबलपुर जिले के, कैमूर रेंज मैं है। कैमूर पर्वतमाला के उत्तर-पश्चिम ढलान ही केन नदी का उद्गम स्थल है। यह अहिरगवां ग्राम के पास से उत्पन्न होती है। यह स्थल, समुद्र तल से 550 मीटर की ऊँचाई पर है। केन नदी, उत्तर प्रदेश में चिल्ला गाँव के पास, यमुना नदी में विलीन होती है। यह संगम स्थल लगभग 95 मीटर की ऊँचाई पर स्थित है। केन नदी, पन्ना और छतरपुर जिलों के बीच सीमा बनाती है। केन नदी के द्वारा उत्तर प्रदेश एवं मध्य प्रदेश की प्राकृतिक सीमा भी बनाई गई है। मध्य प्रदेश के छतरपुर जिले और उत्तर प्रदेश के बांदा जिले के बीच की राज्य सीमा पर केन नदी ही है। 

केन नदी की सहायक नदियाँ-

केन नदी की अन्य महत्वपूर्ण सहायक नदियाँ निम्नलिखित है- भालूमा नदी, कोपरा नदी, बेवस नदी, उर्मिल नदी, मिरहसन नदी, कुटनी
नदी, केल नदी, गुरने नदी, पाटन नदी, स्यामरी नदी, चंद्रावल नदी तथा बन्ने नदी। 

सोनार नदी- केन नदी की सबसे लंबी सहायक नदी सोनार नदी है, जो मध्य प्रदेश में बहती है। सोनार नदी की उप घाटी संपूर्ण रूप से मध्यप्रदेश में ही है। यह 23 ° 20 'और 23 ° 50' के उत्तर अक्षांश तथा 78 ° 30 'के पूर्वी देशांतर और 79 ° 15' के बीच स्थित है। इसकी लंबाई 227 किलोमीटर है। सोनार नदी घाटी का कुल जलग्रहण क्षेत्र 6,550 वर्ग किलोमीटर है। इस घाटी का एक पत्ते के आकार सा जलग्रहण क्षेत्र है। इसकी औसत चौड़ाई लगभग 40 किलोमीटर है। सोनार नदी घाटी कि एक तरफ पर्वतमाला तथा बाकी दोनों तरफ नदियां है। पूर्व दिशा में बेयरमा घाटी (केन नदी की एक और उप-घाटी) है। सोनार नदी के पश्चिम में धसान घाटी (बेतवा नदी की एक उप-घाटी) है एवं‌ दक्षिण दिशा में विंध्य पर्वतमाला है। सोनार नदी घाटी पन्ना, छतरपुर तथा रायसेन जिलों कि कुछ हिस्सों से होकर बहती है। सागर जिला और दमोह जिला, इस नदी घाटी में प्रमुख है। सोनार नदी की प्रमुख सहायक नदियाँ निम्नानुसार है- ब्यास नदी, देहर नदी, कैथ नदी, कोपरा नदी और बेरमा नदी। कोपरा नदी और बेरमा नदी के अलावा, बाकी सारी सहायक नदियां, बाई ओर से सोनार नदी में विलीन होती है।

केन नदी घाटी में पर्यटकों के आकर्षण-

केन नदी घाटी के पर्यटन स्थल निम्नलिखित है- राणेह फॉल, केन घड़ियाल अभयारण्य, गंगऊ बांध, पन्ना राष्ट्रीय उद्यान, खजुराहो, कालिंजर का किला, महोबा एवं झांसी।

केन नदी घड़ियाल अभयारण्य पर्यटकों को आकर्षित करते हैं। यहां, प्राकृतिक रूप से निर्मित चट्टानें अलग-अलग रंग के होते हैं। ग्रेनाइट, डोलोमाइट और क्वार्ट्ज़ के चट्टानें सुदृश्य होते हैं। केन नदी और सिमरी नदी के संगम स्थल पर, गंगाऊ बांध का निर्माण हुआ है, जो एक पर्यटन स्थल भी है। पन्ना राष्ट्रीय उद्यान में भी केन नदी बहती है। 

केन नदी के तट पर कुछ महल भी बने हैं। इस क्षेत्र के राजपूतों द्वारा उपयोग किए जाने वाली यह महल अद्भुत सौंदर्य के प्रतीक थे। आजकल, ये महल खंडहर की स्थिति में हैं और केवल प्रमुख इमारतों के खंडहर मौजूद हैं। एक और अनूठी जगह है, बांदा शहर, जो केन नदी के तट पर स्थित है। यह दुर्लभ पत्थरों के भंडार के लिए प्रसिद्ध है।

केन-बेतवा लिंक परियोजना मध्यप्रदेश की सर्वप्रथम परियोजना है जिसका २००५ में में शुभारम्भ हुआ जिसे २३१.४५ लम्बी नहर से जोड़ा जा रहा है । इस परियोजना से लभान्वित जिले टीकमगढ़, छतरपुर, पन्ना और झांसी हैं। इसी परियोजना पर पन्ना राष्टीय उद्यान प्रभावित हो रहा है।


अटल जी के प्रधानमंत्रित्व काल में जब देश की ३७ नदियों को आपस में जोड़ने का फैसला लिया गया , उनमे से एक यह भी थी। देश की इन ३७ नदियों को आपस में जोडने पर ५ लाख ६० हजार करोड़ रु .व्यय होने का अनुमान लगाया गया था। यह देश की वह परियोजना है जिसे सबसे पहले शुरू होना था। परियोजना के सर्वेक्षण कार्य पर ३० करोड़ रु , व्यय किये गए हैं। ६ हजार करोड़ की इस परियोजना का मुख्य बाँध पन्ना टाइगर रिजर्व के डोंदन गाँव में बनना है। बाँध व नहरों के कारण सवा पांच हजार हेक्टेयर क्षेत्र नष्ट हो जाएगा , छतरपुर जिले के दस गाँव डूब जायेंगे।


भारत में नदी के प्रदूषण की समस्या

भारत में नदियों का प्रदूषण एक प्रमुख पर्यावरणीय खतरा बन रहा है, क्योंकि भारत की अधिकाँश नदियाँ अत्यधिक जनसंख्या, अनुपचारित या आंशिक रूप से घरेलू और औद्योगिक अपशिष्ट जल जैसी चुनौतियों का सामना कर रही हैं और नदियों के भारी मात्रा में शोषण ने भारतीय नदी प्रणाली को बड़े पैमाने पर दूषित करने में योगदान दिया है। भारतीय नदी प्रणाली केन की हालत गंभीर है, क्योंकि अगर समय पर कड़े कदम नहीं उठाए गए, तो यह नदी जैविक रूप से मृत होने की कगार पर आ सकती है।

नदियों की समस्याएं...

नदियों में प्रदूषण का स्तर खतरनाक है, और दिल्ली से आगे जा कर ये नदी मर जाती है.

विशेषज्ञों का मानना है कि इसकी वजह है औद्योगिक प्रदूषण, बिना उपचार के कारखानों से निकले दूषित पानी को सीधे नदी में गिरा दिया जाना,नदियों किनारे बसी आबादी मल-मूत्र और गंदगी को सीधे नदी मे बहा देती है.

साथ ही धार्मिक वजहों के चलते तमाम मूर्तियों व अन्य सामग्री का नदी में विसर्जन.

लेकिन इनमें सबसे खतरनाक है रासायनिक कचरा.

Thanks & Regards Azad Foundation Unit Of Azad Group

http://www.azadfoundation.net


Read More
Our Videos

Our Videos

image

About Us

Azad Foundation, Azad Group परिवार का Public Charitable Trust [ NGO ] हैं, जिसका मुख्य उद्देश्य राष्ट्र की सामाजिक समस्याओं के निदान हेतु प्रखर रूप से कार्य करना हैं,एवं पर्यावरण संरक्षण,पशु सेवा,आपदा राहत ,शिक्षा,स्वास्थ्य एवं विभिन्न जन समस्याओ को जनजागरूकता के माध्यम से राष्ट्र सेवा में अग्रणी भूमिका निभाना है यदि आप Azad Foudation की इस मुहिम को निरन्तर बनाये रखना चाहते हैं तो अपनी समर्थ के अनुसार सहयोग अवश्य करें,

Our Videos

Our Team

Ravi Prakash Azad

Founder & President

Deepak Gupta

Managing Director

Our Partners

Our Project

Volunteer

Become Volunteer Form

AZAD Foundation Azad Group का Public Charitable Trust [ NGO ].